रविवार, अगस्त 14, 2011

अष्टपदी रमैणी 2


                        ॥अष्टपदी रमैणी॥

केऊ केऊ तीरथ ब्रत लपटाना, केऊ केऊ केवल राम निज जाना ?
अजरा अमर एक अस्थाना, ताका मरम काहू बिरलै जाना ?
अबरन जोति सकल उजियारा, द्रिष्टि समान दास निस्तारा ।
जो नहीं उपज्या धरनि सरीरा, ताकै पथि न सींच्या नीरा ।
जा नहीं लागे सूरजि के बाना, सो मोहि आनि देहु को दाना ।
जब नहीं होते पवन नहीं पानी, तब नहीं होती सिष्टि उपांनी ।
जब नहीं होते प्यंड न बासा, तब नहीं होते धरनी अकासा ।
जब नहीं होते गरभ न मूला, तब नहीं होते कली न फूला ।
जब नहीं सबद नहीं न स्वाद, तब नहीं होते विद्या न वाद ।
जब नहीं होते गुरु न चेला, तब गम अगमै पंथ अकेला ।

अवगति की गति क्या कहूँ, जिस कर गांव न नांव ।
गुन बिहून का पेखिये, का कर धरिये नांव ।

आदम आदि सुधि नहीं पाई, मांमा हउवा कहाँ थै आई ।
जब नहीं होते राम खुदाई, साखा मूल आदि नहीं भाई ।
जब नहीं होते तुरक न हिंदू, मां का उदर पिता का ब्यंदू ?
जब नहीं होते गाइ कसाई, तब बिसमला किनि फुरमाई ।
भूलै फिरै दीन ह्नै धांवै, ता साहिब का पंथ न पावै?

संजोगै करि गुण धर्या, बिजोगै गुण जाइ ?
जिभ्या स्वारथि आपणै, कीजै बहुत उपाइ ।

जिनि कलमां कलि मांहि पठावा, कुदरत खोजि तिनहं नहीं पावा ।
कर्म करीम भये कर्तूता, वेद कुरान भये दोऊ रीता ।
कृतम सो जु गरभ अवतरिया, कृतम सो जु नाव जस धरिया ।
कृतम सुनित्य और जनेऊ, हिंदू तुरक न जानै भेऊ ।
मन मुसले की जुगति न जानै, मति भूलै द्वै दीन बखानै ।

पाणी पवन संयोग करि, कीया है उतपाति ।
सुंनि में सबद समाइगा, तब कासनि कहिये जाति ।

तुरकी धरम बहुत हम खोजा, बहु बाजगर करै ए बोंधा ।
गाफिल गरब करै अधिकाई, स्वारथ अरथि बधै ए गाई ।
जाकौ दूध धाई करि पीजै, ता माता को बध क्यूं कीजै ।
लुहरै थकै दुहि पीया खीरो, ताका अहमक भकै सरीरो?

बेअकली अकलि न जानहीं, भूले फिरै ए लोइ ।
दिल दरिया दीदार बिन, भिस्त कहाँ थै होइ ।

पंडित भूले पढ़ि गुन्य वेदा, आप न पावै नाना भेदा ।
संध्या तरपन अरु षट करमा, लागि रहे इनकै आशर मां ।
गायत्री जुग चारि पढ़ाई, पूछौ जाइ कुमति किनि पाई ।
सब में राम रहै ल्यौ सींचा, इन थैं और कहौ को नीचा ।
अति गुन गरब करै अधिकाई, अधिकै गरबि न होइ भलाई ।
जाकौ ठाकुर गरब प्रहारी, सो क्यूँ सकई गरब संहारी ।

कुल अभिमान बिचार तजि, खोजौ पद निरबान ।
अंकुर बीज नसाइगा, तब मिलै बिदेही थान ।

खत्री करै खत्रिया धरमो, तिनकूं होय सवाया करमो ।
जीवहि मारि जीव प्रतिपारैं, देखत जनम आपनौ हारै ।
पंच सुभाव जु मेटै काया, सब तजि करम भजैं राम राया ।
खत्री सों जु कुटुंब सूं सूझै, पंचू मेटि एक कूं बूझै ।
जो आवध गुर ग्यान लखावा, गहि कर बल धूप धरि धावा ।
हेला करै निसानै घाऊ, जूझ परै तहां मनमथ राऊ ।

मनमथ मरे न जीवई, जीवण मरण न होइ ।
सुनि सनेही राम बिन, गये अपनपौ खोइ ।

अरु भूले षट दरसन भाई, पाखंड भेष रहे लपटाई ।
जैन बोध अरु साकत सैंना, चारवाक चतुरंग बिहूना ।
जैन जीव की सुधि न जानै, पाती तोरि देहुरै आंनै ।
अरु पिथमीं का रोम उपारे, देखत जीव कोटि संहारै ।
मनमथ करम करै असराग, कलपत बिंद धसै तिहि द्वारा ।
ताकी हत्या होइ अदभूता, षट दरसन मैं जैन बिगूता ।

ग्यान अमर पद बाहिरा, नेड़ा ही तैं दूरि ।
जिनि जान्याँ तिनि निकटि है, रांम रह्या सकल भरपूरि ।

आपन करता भये कुलाला, बहु बिधि सिष्टि रची दर हाला ।
बिधना कुंभ कीये द्वै थाना, प्रतिबिंब ता मांहि समाना?
बहुत जतन करि बानक, सौं मिलाय जीव तहाँ ठाँट ।
जठर अगनि दी कीं परजाली, ता मैं आप करै प्रतिपाली?
भीतर थैं जब बाहिर आवा, सिव सकती द्वै नाँव धरावा?
भूलै भरमि परै जिनि कोई, हिंदू तुरक झूठ कुल दोई ।
घर का सुत जो होइ अयाना, ताके संगि क्यूँ जाइ सयाना ।
सांची बात कहै जे वासूँ, सो फिरि कहै दिवाना तासू ।
गोप भिन्न है एकै दूधा, कासूँ कहिए बाम्हन सूधा ।

जिनि यहु चित्र बनाइया, सो साचा सतधार ।
कहै कबीर ते जन भले, जे चित्रवत लेहि बिचार ।5


WELCOME

मेरी फ़ोटो
Agra, uttar pradesh, India
भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के फ़िरोजाबाद जिले में जसराना तहसील के एक गांव नगला भादौं में श्री शिवानन्द जी महाराज परमहँस का ‘चिन्ताहरण मुक्तमंडल आश्रम’ के नाम से आश्रम है। जहाँ लगभग गत दस वर्षों से सहज योग का शीघ्र प्रभावी और अनुभूतिदायक ‘सुरति शब्द योग’ हँसदीक्षा के उपरान्त कराया, सिखाया जाता है। परिपक्व साधकों को सारशब्द और निःअक्षर ज्ञान का भी अभ्यास कराया जाता है, और विधिवत दीक्षा दी जाती है। यदि कोई साधक इस क्षेत्र में उन्नति का इच्छुक है, तो वह आश्रम पर सम्पर्क कर सकता है।

Follow by Email