शुक्रवार, अप्रैल 30, 2010

वेश्या ओढे़ खासा मखमल

निरंजन धन तुम्हरो दरबार ।जहाँ न तनिक न्याय विचार ।।रंगमहल में बसें मसखरे पास तेरे सरदार ।धूर धूप में साधो विराजे होये भवनिधि पार ।।वेश्या ओढे़ खासा मखमल गल मोतिन का हार ।पतिव्रता को मिले न खादी सूखा ग्रास अहार ।।पाखंडी को जग में आदर सन्त को कहें लबार ।अज्ञानी को परम‌ ब्रहम ज्ञानी को मूढ़ गंवार ।।सांच कहे जग मारन धावे झूठन को इतबार ।कहत कबीर फकीर पुकारी जग उल्टा व्यवहार ।।निरंजन धन तुम्हरो दरबार ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...